Home अंतरराष्ट्रीय यूके ने सीओपी26 से पहले शून्य उत्सर्जन रणनीति निर्धारित की

यूके ने सीओपी26 से पहले शून्य उत्सर्जन रणनीति निर्धारित की

लंदन, 20 अक्टूबर (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। ब्रिटिश सरकार ने स्कॉटलैंड के ग्लासगो में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी26) से पहले अपनी जलवायु रणनीति प्रकाशित की, जिसमें बताया गया है कि देश 2050 तक शून्य उत्सर्जन के अपने लक्ष्य तक कैसे पहुंचने की योजना बना रहा है।

सिन्हुआ समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, मंगलवार को योजनाओं के बारे में बताते हुए, ब्रिटिश सरकार ने कहा कि वह 440,000 अच्छी वेतन वाली नौकरियों का समर्थन करेगी और 2030 तक निजी निवेश में 90 अरब पाउंड तक का फायदा उठाएगी, इस बीच आयातित जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता को कम करेगी जिसने देश को वैश्विक मूल्य स्पाइक्स के जोखिम में डाला है।

रणनीति का समर्थन करते हुए, ब्रिटेन का पहला नेट जीरो रिसर्च एंड इनोवेशन फ्रेमवर्क भी उसी दिन सामने आया, जो अगले 5-10 वर्षों में यूके के लिए प्रमुख शून्य अनुसंधान और नवाचार प्राथमिकता वाले क्षेत्रों को निर्धारित करता है।

जलवायु परिवर्तन को कैसे रोका जाए, इस पर बातचीत करने के लिए ग्लासगो में वैश्विक नेताओं की बैठक से कुछ दिन पहले यह घोषणा की गई। ब्रिटिश सरकार के अनुसार, पेरिस समझौते के तहत ब्रिटेन की दूसरी दीर्घकालिक कम ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन विकास रणनीति के रूप में नेट जीरो स्ट्रैटेजी को यूनाइटेड नेशंस फ्रेमवर्क कन्वेंशन ऑन क्लाइमेट चेंज (यूएनएफसीसीसी) में प्रस्तुत किया जाएगा।

हालांकि, आलोचकों ने इंगित किया है कि रणनीति, जो 360 से ज्यादा पेजों में लिखी गई है, शून्य उत्सर्जन तक पहुंचने के लिए आवश्यक परिवर्तन को चलाने के लिए पर्याप्त नीतियां या निवेश प्रदान नहीं करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

शी चिनफिंग ने हांगकांग के लिए ‘‘एक देश, दो प्रणाली’’ नीति का किया बचाव

हांगकांग, 01 जुलाई (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने हांगकांग के लि…