Home अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठित स्पेलिंग बी प्रतियोगिता जीतने वाली पहली अफ्रीकी-अमेरिकी बनी जैला

प्रतिष्ठित स्पेलिंग बी प्रतियोगिता जीतने वाली पहली अफ्रीकी-अमेरिकी बनी जैला

वाशिंगटन, 09 जुलाई (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। लुइसियाना की 14 वर्षीय जैला एवांट गार्डे अमेरिका की प्रतिष्ठित स्पेलिंग बी प्रतियोगिता, 2021 जीतने वाली पहली अफ्रीकी अमेरिकी बन गयी हैं और इस प्रतियोगिता के 93 वर्षों के इतिहास में वह दूसरी अश्वेत विजेता है।

वर्षों से इस प्रतियोगिता में दबदबा बनाए रखने वाले भारतीय-अमेरिकियों को इस बार दूसरे और तीसरे स्थान से संतोष करना पड़ा। सैन फ्रांसिस्को की 12 वर्षीय चैत्रा थुम्मला और न्यूयॉर्क की 13 वर्षीय भावना मदिनी इस कड़े मुकाबले में क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहीं। अमेरिका की प्रथम महिला जिल बाइडन भी इस प्रतियोगिता में मौजूद रहीं।

जैला ने ‘‘मुरैया’’ शब्द की स्पेलिंग बताने के बाद बृहस्पतिवार रात को यह खिताब अपने नाम किया, जिसका मतलब है उष्णकटिबंधीय एशियाई और ऑस्ट्रेलियाई पेड़ों की एक प्रजाति, जिस पर पिच्छकार पत्तियां और फूल होते हैं। जैला ने 50,000 डॉलर की पुरस्कार राशि जीती।

स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी ने प्रतियोगिता के बाद ट्वीट किया, ‘‘यह हमारे लिए खुशी का मौका है। 2019 में 370वें स्थान पर रहने के बाद जैला एवांट गार्डे ने 2021 स्क्रिप्स नेशनल स्पेलिंग बी प्रतियोगिता जीत ली। सभी प्रतिभागियों को बधाई। शब्दकोश का सामना करने में सभी की तैयारी और साहस पर हमें गर्व है।’’ कोरोना वायरस महामारी के कारण पिछले साल यह प्रतियोगिता नहीं करायी जा सकी थी।

जैला ने फ्लोरिडा के ओरलैंडो में ईएनपीएन वाइड वर्ल्ड ऑफ स्पोटर्स कॉम्प्लेक्स में फाइनल में 11 प्रतिभागियों को पछाड़ते हुए यह खिताब जीता। आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली जैला इस प्रतियोगिता के 93 सत्रों में लुइसियाना की पहली निवासी और अफ्रीकी मूल की पहली अमेरिकी विजेता है। सीएनएन ने बताया कि इससे पहले एकमात्र अश्वेत विजेता 1998 में जमैका का जोडी एन मैक्सवेल था।

जैला की बास्केटबॉल में रूचि है और उन्हें एक दिन ‘डब्ल्यूएनबीए’ के लिए खेलने की उम्मीद है और उनके नाम एक साथ कई गेंदों को ड्रिब्लिंग करने का गिनीज विश्व रिकॉर्ड भी है।

अमेरिका की प्रथम महिला जिल बाइडन ने जैला की ऐतिहासिक जीत पर उन्हें बधाई दी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘बधाई हो जैला।’’

पिछले 20 वर्षों से अधिक समय से भारतीय-अमेरिकियों का स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में वर्चस्व रहा है जबकि वे अमेरिकी आबादी का महज एक प्रतिशत हैं। 2008 के बाद से यह पहली बार है कि कम से एक विजेता या सह-विजेता दक्षिण एशियाई मूल का नहीं है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

खेलो इंडिया अंडर-16 लीग का पहला चरण मंगलवार से

नई दिल्ली, 15 अगस्त (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। खेलो इंडिया महिला हॉकी लीग 22 (अंडर-16) की शु…