Home देश-दुनिया संसद में नागालैंड फायरिंग के मामले पर गृहमंत्री का आज वक्तव्य

संसद में नागालैंड फायरिंग के मामले पर गृहमंत्री का आज वक्तव्य

नई दिल्ली, 06 दिसंबर (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। नागालैंड की घटना पर गृहमंत्री अमित शाह संसद के दोनों सदनों में सोमवार दोपहर में वक्तव्य देंगे। लोक सभा और राज्य सभा में विपक्ष की ओर से यह मुद्दा उठाए जाने पर सरकार की ओर से सुबह यह आश्वासन दिया गया। दोनों सदनों में विपक्ष के कई सदस्यों ने सदन की कार्रवाई शुरू होने के बाद नागालैंड में सुरक्षा बलों की फायरिंग का माकला उठाया और कहा कि इसमें कुछ नागरिकों की मौत हुई है। सदस्यों ने इस पर चर्चा कराने तथा इस मामले में गृहमंत्र से बयान की मांग की। लोक सभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चैधरी और राज्य सभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे तथा कुछ अन्य सदस्यों यह मामला उठाया। श्री चैधरी ने कहा, ‘गृह मंत्री सदन में आएं और बयान दें।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि सरकार असंवेदनशील हो गयी है। अध्यक्ष ओम बिड़ला ने कांग्रेस के नेता श्री चैधरी को बात रखने का अवसर दिया। अध्यक्ष ने सदन को बताया कि ‘माननीय गृहमंत्री ने उन्हें लिखित में दिया है कि वह सदन में इस विषय में आज ही वक्तव्य देंगे।’ संसदीय कार्यमंत्री प्रहलाद जोशी ने हस्तक्षेप करते हुए कहा, ‘ यह मामला संवेदन शील है। आज जब भी आप समय देंगे माननीय गृहमंत्री सदन में आ कर इस विषय में वक्तव्य देंगे।’ अध्यक्ष श्री बिड़ला ने सदस्यों से सदन में व्यवस्था बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि ‘यह सदन आप का है। आप को अपनी बात रखने का मौका जरूर दूंगा।’

इसके साथ ही उन्होंने प्रश्न-काल की कार्रवाई शुरू कर दी। इस दौरान विपक्ष के कुछ सदस्य नारे-बाजी करते रहे।
उधर राज्य सभा में कई विपक्षी सदस्यों ने नगालैंड में सेना के जवानों की फायरिंग और हिंसा की घटना पर नियम 167 के तहत कार्यस्थगन का नोटिस दे रखा था। सदन की कार्रवाई शुरू होते ही विपक्ष ने यह मुद्दा उठाने का प्रयास किया। सभापति एम वेंकैया नायडु ने विपक्ष के नेता को बात रखने का मौका दिया और आश्वासन दिया कि गृहमंत्री इस ममले में सदन में वक्तव्य जरूर देंगे। इस बीच कुछ विपक्षी सदस्यों ने सदन के 12 सदस्यसों के निलंबन का मुद्दा भी छेड़ दिया और निलंबन खत्म करनेक की मांग को लेकर नारेबाजी शुरू कर दी। सभापति ने कार्यवाही शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही शोर शराबे के मद्देनजर बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी। गौरतलब है कि नागालैंड के मोन जिले में रविवार को सैन्य टुकड़ी की फायरिंग और हिंसा में 13 नागरिकों और एक जवान की मौत हो गई। इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी है और राज्य सरकार ने एक विशेष जांच दल का गठन किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

शी चिनफिंग ने हांगकांग के लिए ‘‘एक देश, दो प्रणाली’’ नीति का किया बचाव

हांगकांग, 01 जुलाई (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने हांगकांग के लि…