Home लेख क्या परमाणु हमला होगाघ्
लेख - March 2, 2022

क्या परमाणु हमला होगाघ्

-: ऐजेंसी अशोक एक्सप्रेस :-

हमारा मानवीय भरोसा है कि रूस परमाणु हमला नहीं करेगा। राष्ट्रपति पुतिन उसके व्यापक और विध्वंसक नतीजों को जानते हैं। करीब 77 सालों के बाद एक बार फिर परमाणु युद्ध का खौफ सामने हैए लिहाजा हड़कंप स्वाभाविक है। यदि इस दौर में परमाणु हमले की नौबत आईए तो पूरी कायनात ही खत्म हो सकती है। रूस के पास 6257 परमाणु हथियार बताए जाते हैंए तो अमरीका भी करीब 5500 आणविक अस्त्रों के साथ बहुत पीछे नहीं है। विनाश के लिए तो 2.3 एटम बम और मिसाइलें आदि ही पर्याप्त हैं। फ्रांस और ब्रिटेन भी परमाणु शक्ति वाले देश हैंए लेकिन यह भी हकीकत है कि पुतिन ने रूस के परमाणु दस्ते को सतर्क कर दिया है। रक्षा मंत्री ने रूसी राष्ट्रपति को ब्रीफ किया है कि दस्ते ने युद्ध की तैयारी भी शुरू कर दी है। मिसाइल कमांड और बॉम्बर को भी अलर्ट कर दिया गया है। परमाणु युद्ध की संभावनाओं के मद्देनजर बुधवार को अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी और संयुक्त राष्ट्र के 35 देशों के एक विशेष बोर्ड की बैठकें बुलाई गई हैं। संकेत बेहद खतरनाक हैं। संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए महासचिव गुतारेस ने आग्रह किया है कि यूक्रेन में युद्ध को तुरंत समाप्त किया जाए। सवाल यह है कि कौन.सा देश ऐसे संबोधन को गंभीरता से ग्रहण करता हैघ् बहरहाल पुतिन सनकी और जिद्दी राजनेता हैं। दरअसल रूस के पास ऐसे परमाणु हथियार और बम हैंए जिनके सामने हिरोशिमा और नागासाकी के एटम बम ष्दिवाली के पटाखेष् लगते हैं। रूस जलए थल और आसमान तीनों माध्यमों के जरिए परमाणु हमला कर सकता है।ं

इसे रूस और पुतिन की हताशा मानें या बौखलाहटए घबराहट करार देंए लेकिन संकेत अच्छे और मानवीय नहीं हैं। हालांकि अधिकतर विशेषज्ञों का मानना है कि पुतिन दुनिया को डरा रहे हैंए घुड़कियां दे रहे हैंए लेकिन ऐसे भी वरिष्ठ रक्षा विशेषज्ञ हैंए जो पुतिन के बयान को हल्के में लेने के पक्षधर नहीं हैं। सवाल यह है कि रूस के सामनेे परमाणु हमले की नौबत ही क्यों आईघ् यूक्रेन पर रूस के हमले को पांच दिन बीत चुके हैं। रूस ने बमोंए मिसाइलोंए रॉकेटों की बौछार कर काफी.कुछ तबाह और बर्बाद किया है। इनसानी जानें भी गई हैं। रूस के अपने 5300 से ज्यादा सैनिक मारे जा चुके हैं। दरअसल राष्ट्रपति पुतिन और उनके रणनीतिकारों को यह अंदाज़ा नहीं था कि यूक्रेनी सेनाएं इतना प्रतिरोध कर सकेंगी। राजधानी कीव के भीतर रूसी सेनाएंए लगातार हमलों के बावजूदए नहीं घुस सकेंगी। यूक्रेन के नागरिक भी रूसी टैंकों पर कथित पेट्रोल बमों से हमले कर रहे हैं। रूस युद्ध को लंबा खींचने के पक्ष में नहीं हैए क्योंकि उसके सैन्य अभियान पर हररोज़़ औसतन 1ण्25 लाख करोड़ रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। चौतरफा आर्थिक पाबंदियों के कारण यह खर्चए एक हद के पारए करना मुनासिब नहीं है। रूसी मुद्रा रुबल करीब 40 फीसदी गिर चुकी है। रूस के सेंट्रल बैंकों पर अमरीका और अन्य देशों के कब्जे हैं। रूस जमा विदेशी मुद्रा भी खर्च नहीं कर सकताए क्योंकि अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग भी संभव नहीं है।

वैश्विक कारोबार बेहद सीमित हो गया है। यदि युद्ध 15.20 दिन तक चला और अमरीकाए यूरोपीय तथा नाटो देशों का दखल बढ़ा और यूक्रेन को आर्थिकए हथियारों की मदद मिलने लगीए तो रूस में कंगाली के हालात उभर सकते हैंए लिहाजा पुतिन का मानस बताया जा रहा है कि वह सीमित परमाणु हमला कर सकते हैं। विध्वंस तो उससे भी होगा और तीसरे विश्व युद्ध की शुरुआत हो सकती है। उस स्थिति में दुनिया के देश एक तरफ होंगे और रूस अकेला ही दूसरी तरफ होगा। इन हालात में चीन भी अलग रहेगा। ऐसा विश्लेषण ष्द इकॉनोमिस्टष् में छपा है। रपट में यह भी कहा गया है कि पुतिन चाहते हैं कि मौजूदा सैन्य अभियान समय और रणनीति के मुताबिक चले। यूक्रेन में सत्ता को पलटा जा सके और वहां विसैन्यीकरण हो। ष्कठपुतली सरकारष् वहां बैठे और रिमोट रूस के हाथ में रहे। क्या सिर्फ इसी आधार पर इतना विध्वंसक युद्ध छेड़ने की जरूरत थीघ् यह सवाल संयुक्त राष्ट्र में भी उठा था। बहरहाल पुतिन की धमकी को अमरीका और अन्य देशों ने गंभीरता से लिया है। अमरीका ने मास्को में अपने नागरिकों को तुरंत देश लौटने की सलाह दी है। देखते हैं कि परमाणु युद्ध की इस सनक की नियति क्या होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

चीन का अंतरिक्ष यान चंद्रमा के सुदूर हिस्से से नमूने लेकर पृथ्वी पर लौटा

बीजिंग, 25 जून (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। चीन का चांग’ए 6 अंतरिक्ष यान पहली बार चंद्रमा के…