Home अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा संयंत्र को रूसी सेना ने बनाया निशाना

परमाणु ऊर्जा संयंत्र को रूसी सेना ने बनाया निशाना

कीवए 04 मार्च (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। यूरोप के सबसे बड़े परमाणु ऊर्जा संयंत्र के प्रवक्ता ने कहा कि दक्षिणी यूक्रेन के एनेर्होदर शहर में ऊर्जा संयंत्र पर रूसी सेना के हमले से प्रतिष्ठान में आग लग गयी है।

एक सरकारी अधिकारी ने ष्द एसोसिएटेडेट प्रेसष्;एपीद्ध को बताया कि ष्जपोरिजिया परमाणु संयंत्रष् के आस.पास के क्षेत्र में विकरण का स्तर बढ़ा हुआ पाया गया है। इस स्थान पर देश की करीब 25 प्रतिशत बिजली का उत्पादन होता है।

अधिकारी ने नाम उजागर ना करने की शर्त पर यह जानकारी दीए क्योंकि सूचना को अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है।

संयंत्र के प्रवक्ता एन्ड्री तुज ने यूक्रेनी टेलीविजन को बताया कि आग को बुझाने के लिए लड़ाई रोकी जानी बेहद जरूरी है।

रूसी सेना यूक्रेनी शहर एनेर्होदर पर नियंत्रण के लिए बृहस्पतिवार से लड़ाई लड़ रही हैए जहां यूरोप का सबसे बड़ा परमाणु ऊर्जा संयंत्र है और उन्होंने देश को समुद्र मार्ग से काटने के लिए भी काफी मशक्कत की है। देश के नेताओं ने नागरिकों से आक्रमणकारियों के खिलाफ छापामार युद्ध करने का आह्वान किया है।

एनेर्होदर में देश का एक.चौथाई बिजली उत्पादन होता है। वहां लड़ाई ऐसे वक्त हो रही हैए जब रूस और यूक्रेन के बीच दूसरे दौर की बातचीत में नागरिकों को निकालने और मानवीय सहायता पहुंचाने के लिए एक सुरक्षित गलियारा बनाने के संबंध में एक अस्थायी समझौता हुआ है।

सियोल.

दक्षिण कोरिया ने कहा कि रूस के यूक्रेन पर आक्रमण के बाद रूस के खिलाफ अपने निर्यात प्रतिबंधों को कड़ा करने के बदले अमेरिका से उसे कुछ छूट मिली हैं।

दक्षिण कोरिया के व्यापारए उद्योग तथा ऊर्जा मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि व्यापार मंत्री येओ हान.कू की इस सप्ताह वाशिंगटन में वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारियों के साथ हुई मुलाकात के दौरान यह समझौता हुआ।

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन ने पिछले सप्ताह यूक्रेन पर आक्रमण के जवाब में अर्धचालकए लेज़रए विमान तथा संचार उपकरण जैसे विदेशी प्रौद्योगिकी उत्पादों तक रूस की पहुंच को समाप्त करने के उद्देश्य से कई प्रतिबंधों का ऐलान किया था।

दक्षिण कोरियाई लोगों ने प्रमुख दक्षिण कोरियाई कम्पनियों पर अमेरिकी प्रतिबंधों के प्रभाव को कम करने के लिए विनियमन से छूट मांगी थी। दक्षिण कोरिया ने पहले ही रूस को रणनीतिक सामग्रियों के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है और वैश्विक भुगतान प्रणालियों से प्रमुख रूसी बैंकों को काटने के अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का भी वह हिस्सा है।

अमेरिकी अधिकारियों ने अपने दक्षिण कोरियाई समकक्षों को बताया कि स्मार्टफोनए यात्री कार और वाशिंग मशीन जैसे उपभोक्ता सामान तब तक अमेरिकी प्रतिबंधों के अधीन आएंगेए जब तक उनका इस्तेमाल रूसी नागरिकों या कम्पनियों द्वारा हो रहा हैए सेना के द्वारा नहीं।

वाशिंगटन.

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के प्रशासन ने देश में मौजूद यूक्रेन के लोगों को बृहस्पतिवार को मानवीय सहायता की पेशकश कीए जो हजारों लोगों को उनके युद्धग्रस्त देश भेजे जाने से उनकी रक्षा कर सकता है।

संघीय कार्यक्रम ष्टेंपरेरी प्रोटेक्टेड स्टेटसष् ;अस्थायी संरक्षित दर्जाद्ध के तहत यूक्रेन के नागरिक 18 महीने तक देश में रह सकते हैं। संरक्षण का पात्र होने के लिए किसी व्यक्ति का कम से कम मंगलवार से अमेरिका में होना आवश्यक है।

प्रशासन ने कहा कि यूक्रेन में रूसी आक्रमण के कारण यह फैसला किया गया है।

आक्रमण से एक बड़ा मानवीय संकट पैदा हो गया हैए जिससे 10 लाख से अधिक लोग देश छोड कर चले गए हैं।

गृह सुरक्षा मंत्री एलेजांद्रो एनण् मयोरकास ने कहाए ष्ष् यूक्रेन पर रूस के पूर्व नियोजित और अकारण हमले के परिणामस्वरूप वहां युद्ध तथा बेवजह की हिंसा का मंजर हैए जिस कारण यूक्रेन के नागरिक दूसरे देशों में पनाह लेने को मजूबर हो गए हैं।ष्ष्

वैचारिक संस्था ष्माइग्रेशन पॉलिसी इंस्टीट्यूटष् के अनुसार इस योजना से अमेरिका में यूक्रेन के 30ए000 से अधिक नागरिकों को लाभ मिल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

प्रतिबंधों से निपटने के लिए उत्तर कोरिया के साथ मिलकर काम करेंगे : पुतिन

सियोल, 18 जून (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग में शिखर सम्मे…