Home देश-दुनिया राणा कपूर के आरोपों पर भाजपा ने कहा, कांग्रेस व गांधी परिवार ‘वसूली’ करते थे

राणा कपूर के आरोपों पर भाजपा ने कहा, कांग्रेस व गांधी परिवार ‘वसूली’ करते थे

नई दिल्ली, 24 अप्रैल (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने रविवार को कांग्रेस और गांधी परिवार पर ‘‘वसूली’’ का आरोप लगाते हुए दावा किया कि सत्ता में रहने के दौरान वे पद्म भूषण सम्मान भी बेचते थे। यस बैंक के सह संस्थापक राणा कपूर की ओर से कथित तौर पर लगाए गए आरोपों के मद्देनजर भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया ने यह आक्षेप लगाया।

राणा के आरोपों के मुताबिक कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाद्रा ने एम एफ हुसैन की एक पेंटिंग खरीदने को उन्हें ‘‘विवश’’ किया था और पेंटिंग के बदले मिले रुपयों का इस्तेमाल गांधी परिवार ने न्यूयॉर्क में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के इलाज पर खर्च किया। कांग्रेस के चुनाव चिह्न ‘‘हाथ’’ का उल्लेख करते हुए भाटिया ने कहा, ‘‘कांग्रेस का हाथ भ्रष्टाचार के साथ…आम आदमी जब परेशान था तब कांग्रेस और गांधी परिवार मस्ती कर रहे थे।’’

ईडी द्वारा धनशोधन के मामले में मुंबई की एक विशेष अदालत में दाखिल आरोपपत्र के मुताबिक, कपूर ने केंद्रीय एजेंसी के समक्ष दिए बयान में कथित तौर पर कहा है कि उन्हें कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाद्रा से एम एफ हुसैन की पेंटिंग खरीदने के लिए ‘विवश’ किया गया था और पेंटिंग के बदले मिले रुपयों का इस्तेमाल गांधी परिवार ने न्यूयॉर्क में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के इलाज पर खर्च किया।

आरोपपत्र के मुताबिक कपूर ने ईडी को बताया कि तत्कालीन पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा ने कहा था कि यदि उन्होंने (कपूर ने) एम एफ हुसैन की पेंटिंग खरीदने से मना किया, तो इससे उन्हें गांधी परिवार से संबंध बनाने में न सिर्फ बाधा उत्पन्न होगी बल्कि ‘पद्म भूषण’ सम्मान प्राप्त करने में भी कठिनाई होगी।

कपूर ने ईडी को यह भी बताया कि सोनिया गांधी के विश्वस्त अहमद पटेल ने उनसे कहा था कि सोनिया गांधी के उपचार के लिए एक उपयुक्त समय पर गांधी परिवार का सहयोग कर उन्होंने (कपूर ने) अच्छा काम किया है और ‘पद्म भूषण’ के लिए उनके नाम पर समुचित विचार किया जाएगा।

भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए भाटिया ने कहा कि ‘‘जब कांग्रेस सत्ता में थी तो गांधी परिवार के सदस्य पार्टी के नेताओं पर पेंटिंग की खरीदी सुनिश्चित करने के लिए दवाब बनाया करते थे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘प्रियंका गांधी ने दवाब बनाया कि कपूर दो करोड़ रुपये में पेंटिंग खरीदें।’’

आरोपपत्र के मुताबिक कपूर ने दावा किया है कि उन्होंने पेंटिंग के एवज में दो करोड़ रुपये की राशि का भुगतान चेक से किया। साथ ही, ‘‘मिलिंद देवड़ा (पूर्व कांग्रेस सांसद और दिवंगत मुरली देवड़ा के पुत्र) ने गोपनीय तरीके से उन्हें सूचना दी कि इस पेंटिंग की बिक्री से मिलने वाले धन का उपयोग गांधी परिवार सोनिया गांधी के न्यूयॉर्क में उपचार कराने पर करेगा।’’

भाजपा के आईटी प्रकोष्ठ के प्रमुख अमित मालवीय ने आरोप लगाया कि ईडी के समक्ष राणा के इकबालिया बयान से साफ हो गया है कि गांधी परिवार और कांग्रेस न केवल ‘‘जबरन वसूली करती है बल्कि देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भी सबसे अधिक बोली लगाने वालों या दरबारियों को बेचती है, जो उनकी बोली लगाते हैं।’’

भाटिया ने दावा किया कि कपूर दो करोड़ रुपये देने का तैयार नहीं थे, लेकिन कांग्रेस की तत्कालीन सरकार के मंत्रियों द्वारा उनपर दबाव बनाया गया और कहा गया कि यदि वे पेंटिंग को नहीं खरीदेंगे तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना होगा।

राणा कपूर का यह कथित बयान ईडी द्वारा विशेष अदालत में हाल में यस बैंक के सह संस्थापक, उनके परिवार, दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (डीएचईएल) के प्रवर्तक कपिल और धीरज वधावन और अन्य के विरुद्ध धन शोधन के मामले में दाखिल दूसरे पूरक आरोपपत्र (कुल तीन) का हिस्सा है। उल्लेखनीय है कि कपूर को मार्च 2020 में गिरफ्तार किया गया था और इस समय वह न्यायिक हिरासत में हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

चीन का अंतरिक्ष यान चंद्रमा के सुदूर हिस्से से नमूने लेकर पृथ्वी पर लौटा

बीजिंग, 25 जून (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। चीन का चांग’ए 6 अंतरिक्ष यान पहली बार चंद्रमा के…