Home व्यापार सैमसंग के वाइस चेयरमैन ली जे-योंग को राहत के संकेत
व्यापार - June 7, 2021

सैमसंग के वाइस चेयरमैन ली जे-योंग को राहत के संकेत

सोल, 07 जून (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। साउथ कोरिया की सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक पार्टी (डीपी) के अध्यक्ष ने सैमसंग ग्रुप के वाइस चेयरमैन ली जे-योंग को संभावित रूप से पैरोल देने का संकेत दिया है। व्यापार संगठनों की तरफ से हाल ही में ली को क्षमा कर दिए जाने का आह्वान किया गया था। खासतौर पर 15 अगस्त लिबरेशन डे से पहले इस मसले पर लोगों ने अपनी बातें रखी। इस दिन दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति के द्वारा राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देने के प्रयासों के हिस्से के रूप में अक्सर विशेष क्षमादान देने के अपने अधिकार का उपयोग किया जाता रहा है। रविवार को योनहाप न्यूज एजेंसी के साथ एक साक्षात्कार के दौरान सत्तारूढ़ डेमोक्रेटिक पार्टी के अध्यक्ष रेप सॉन्ग यंग-गिल ने कहा, (ली) को संभवतः पैरोल पर मुक्त किया जा सकता है। उन्हें सिर्फ क्षमा दिए जाने तक बात सीमित नहीं रहेगी। पार्टी का नेतृत्व संभालने के बाद यह उनका पहला प्रेस इंटरव्यू था। सॉन्ग ने इस बात पर भी जोर दिया कि सैमसंग को ऑफिस में अपने लीडर की जरूरत है ताकि निवेश संबंधी मुद्दों कां संभाला जा सके। उन्होंने आगे कहा, लोगों की तरफ से यह मांग की जा रही है कि ली को महामारी के समय में सेमीकंडक्टर और वैक्सीन क्षेत्रों में काम करने की जरूरत है। बिजनेस लॉबी समूहों की तरफ से ली को क्षमा करने के लिए राष्ट्रपति कार्यालय चेओंग वा डे को इस पर चिट्ठी भी लिखी गई है। इसमें दुनिया की सबसे बड़ी मेमोरी चिप निर्माण सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स में नेतृत्व की अनुपस्थिति पर चिंता जताई गई है क्योंकि दुनिया भर में चिप की कमी को देखते हुए इसके प्रतिद्वंद्वियों द्वारा निवेश में तेजी लाई जा रही है। पिछले महीने एक सर्वेक्षण में देखा गया कि हर दस में से छह दक्षिण कोरियाई जेल में बंद ली जे-योंग को क्षमा करने के विचार का समर्थन करते हैं। केवल 27 प्रतिशत ने इस विचार का विरोध किया, जबकि शेष 9 प्रतिशत ने कहा कि वे इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहना चाहते हैं।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

आईडीबीआई बैंक के लिए बोलियां दाखिल करने की समयसीमा जनवरी तक बढ़ाई जा सकती है

नई दिल्ली, 09 दिसंबर (ऐजेंसी/सक्षम भारत)। आईडीबीआई बैंक के निजीकरण के लिए आरंभिक बोलियां द…