Home अंतरराष्ट्रीय ‘एमआरएनए’ टीके के लाभ उसके जोखिम से कहीं अधिक हैं: विशेषज्ञ समिति

‘एमआरएनए’ टीके के लाभ उसके जोखिम से कहीं अधिक हैं: विशेषज्ञ समिति

सिंगापुर, 28 जून (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। कोविड-19 टीकाकरण पर सिंगापुर की विशेषज्ञ समिति ने चिकित्सकों द्वारा लिखे गए एक खुले पत्र के जवाब में कहा कि कोविड-19 रोधी ‘एमआरएनए’ टीके के लाभ उसके जोखिम से कहीं अधिक हैं।

‘चैनल न्यूज एशिया’ की एक खबर के अनुसार, इस महीने की शुरुआत में, समिति ने कहा था कि ‘एमआरएनए’ टीकों की दूसरी खुराक युवा पुरुषों में ‘मायोकार्डिटिस’ और ‘पेरीकार्डिटिस’ के जोखिम में संभवतः मामूली वृद्धि कर सकती है।

‘मायोकार्डिटिस’ और ‘पेरिकार्डिटिस’ एक ऐसी स्थिति है, जो क्रमशः हृदय की मांसपेशियों और हृदय की बाहरी परत को प्रभावित करती हैं।

समिति ने कहा, ‘‘ हमारी समीक्षा के बाद का मूल्यांकन यह है कि कोविड-19 रोधी टीके ‘एमआरएनए’ के फायदे उसके जोखिम से कहीं अधिक हैं। ‘मायोकार्डिटिस’ और ‘पेरिकार्डिटिस’ के आंकड़ों में तब से कोई बदलाव नहीं है और विशेषज्ञ समिति का आकलन भी वही है।’’

गौरतलब है कि अमेरिका के ‘सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन’ के ‘एमआरएनए’ टीके की दूसरी खुराक लेने के बाद 13 एक वर्षीय लड़के की मौत के मामले की जांच शुरू करने के बाद चिकित्सकों के एक समूह ने एक पत्र लिखकर सिंगापुर में युवकों का टीकाकरण बंद करने की मांगी की थी।

समिति ने कहा कि पत्र में जिस 13 वर्षीय लड़के की मौत का जिक्र किया गया है, उसकी मौत के कारण की सार्वजनिक तौर पर जानकारी नहीं दी गई है और अमेरिकी अधिकारी अभी उस मामले की जांच कर रहे हैं।

सिंगापुर अपने राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत ‘फाइजर-बायोएनटेक’ और ‘मॉडर्ना’ के टीके लगा रहा है, जो दोनों ‘एमआरएनए’ आधारित हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

प्रधानमंत्री ने मतदाताओं से भारी संख्या में मतदान का आह्वान किया

नई दिल्ली, 05 दिसंबर (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात विधान…