Home लेख डेल्टा प्लस का खतरा
लेख - July 2, 2021

डेल्टा प्लस का खतरा

-सिद्वार्थ शंकर-

-: ऐजेंसी अशोक एक्सप्रेस :-

कोरोना विषाणु के नए रूप डेल्टा प्लस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा हैै। दो दिन पहले सरकार चेतावनी दे चुकी है कि तीसरी लहर हमारे हाथ में है। उसे हम रोक सकते हैं। मगर चिंता की बात यह है कि इस वैरिएंट के केस लगातार सामने आ रहे हैं। महाराष्ट्र, केरल और छह मध्य प्रदेश के बाद यह दूसरे राज्यों में जड़ें मजबूत कर रहा है। कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पंजाब और जम्मू में भी डेल्टा प्लस से संक्रमित मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। केंद्र सरकार ने राज्यों को परामर्श जारी किया है कि वे इस नए रूप वाले विषाणु के खतरे से निपटने को तैयार रहें। डेल्टा प्लस कितना खतरनाक है, इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि सरकार ने इसे चिंताजनक विषाणु की श्रेणी में रखा है। दूसरी लहर ने जिस तरह से तबाही मचाई, उससे सबक लेते हुए अब केंद्र और राज्यों को सतर्कता बरतना जरूरी है। विशेषज्ञ तीसरी लहर की चेतावनी दे ही रहे हैं। इसलिए इस आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता कि डेल्टा प्लस ही तीसरी लहर का कारण बन जाए। ब्रिटेन में तीसरी लहर का असर देखा जा रहा है। आस्ट्रेलिया की भी आधी से ज्यादा आबादी घरों में है। बांग्लादेश में 14 दिन का सख्त लॉकडाउन लगा दिया गया है। हम इस परिस्थिति से दो-चार ना हों तो जरूरी है कि सरकार की सुनें और सिर्फ सुनें। वह जो कह रही है, जो करने के लिए बोल रही है, वह करते जाएं। न अफवाह में फंसे और न ही दिमाग लगाएं।
अभी तक देखने में यही आया है कि डेल्टा प्लस संक्रमण भी उसी तरह से फैल रहा है जैसे कोरोना फैलना शुरू हुआ था। लोगों की बेरोकटोक आवाजाही से संक्रमण एक राज्य से दूसरे राज्य में पहुंचा और तेजी से फैलता गया। मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश आदि सभी राज्यों की सीमाएं एक दूसरे से लगी हैं। इसलिए अगर किसी भी राज्य से कोई संक्रमित दूसरी जगह पहुंच गया तो वह निश्चित तौर पर संक्रमण का वाहक होगा। वरना इन राज्यों में नए स्वरूप के मामले कैसे मिलते!
इसी डर के कारण गोवा ने महाराष्ट्र से लगने वाली सीमा पर सतर्कता बढ़ा दी है। मध्यप्रदेश ने महाराष्ट्र के बीच परिवहन को बंद रखा है। पिछली बार संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए राज्यों ने अपनी सीमाएं बंद कर ली थीं। भले अभी डेल्टा प्लस के मामले कम हैं, लेकिन जिस तरह राज्यों में विषाणु के इस नए रूप ने दस्तक दे दी है, वह चिंताजनक है। कहने को डेल्टा प्लस के मामले अमेरिका, रूस, चीन, ब्रिटेन, जापान, पोलैंड, स्विटजरलैंड और नेपाल में भी मिले हैं। पर इनमें से किसी भी देश ने इसे चिंताजनक करार नहीं दिया है। लेकिन चिंता की बात तो है।
कोरोना विषाणु अब तक हजारों तरह के रूप बदल चुका है। वैज्ञानिकों के लिए यह कोई कम बड़ी मुश्किल नहीं है। विषाणु के रूप बदलते रहने के कारण संक्रमितों की जांच से लेकर टीका विकसित करने तक में बाधाएं आती हैं। यह तय कर पाना भी आसान नहीं रह जाता कि कौनसा मरीज किस रूप के विषाणु से संक्रमित है और कौन सा टीका किस-किस रूप का तोड़ बन सकता है। अभी तक यही माना जा रहा है कि भारत में दूसरी लहर का कहर डेल्टा रूप वाले विषाणु ने ही बरपाया। इसी डेल्टा विषाणु ने अब डेल्टा प्लस का रूप धारण कर लिया। बहरहाल अब इससे डरने के बजाय इसे पिछली लापरवाहियों के सबक के रूप में लेने की जरूरत है। जांच और संक्रमित व्यक्ति के संपर्कों में आने वालों का पता लगा कर उन्हें एकांतवास में रखने और पर्याप्त इलाज देने की जरूरत है। संक्रमितों की जांच से लेकर इलाज तक में जिस तरह की लापरवाही और कुप्रबंधन का जो खमियाजा हमने भुगता है, उससे अब बचना होगा। नहीं तो बहरूपिया विषाणु और घातक साबित हो सकता है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एमसीडी चुनाव में ‘नोटा’ को 57,545 वोट पड़े

नई दिल्ली, 08 दिसंबर (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव में 57,000 …