Home अंतरराष्ट्रीय आईएईए ने फुकुशिमा में दूषित पानी छोड़ने की जांच की योजना बनाई

आईएईए ने फुकुशिमा में दूषित पानी छोड़ने की जांच की योजना बनाई

टोक्यो, 10 सितंबर (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) फुकुशिमा दाइची परमाणु संयंत्र से समुद्र में रेडियोधर्मी पानी डंप करने की देश की योजना की समीक्षा के लिए दिसंबर में विशेषज्ञों की एक टीम जापान भेजेगी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, चीन और दक्षिण कोरिया के साथ-साथ स्थानीय मछली पकड़ने वाले समुदायों ने 2011 के बड़े भूकंप और सुनामी के बाद से संयंत्र में जमा हुए दूषित पानी को छोड़ने के खिलाफ कड़ी आलोचना की है, जिसके बाद यह योजना प्रस्तावित की गई।

आईएईए के परमाणु सुरक्षा और सुरक्षा विभाग के प्रमुख लिडी एवरार्ड ने गुरूवार को एक ऑनलाइन समाचार सम्मेलन के दौरान कहा, एजेंसी यह सुनिश्चित करने के लिए दृढ़ता से प्रतिबद्ध है कि समीक्षा व्यापक और उद्देश्यपूर्ण है और परिणाम अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को बताए गए हैं।

जापानी सरकार ने अप्रैल में 2023 के वसंत से समुद्र में पानी का निर्वहन शुरू करने का फैसला किया।

इस फैसले की चीन और अन्य पड़ोसी देशों से कड़ी आलोचना हुई है।

चीन ने गंभीर चिंता व्यक्त की है, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा कि बीजिंग ने जापानी पक्ष से एक जिम्मेदार रवैया अपनाने और परमाणु कचरे के निपटान के मुद्दे पर सावधानी बरतने का अनुरोध किया।

इस बीच, दक्षिण कोरिया ने भी अपनी गंभीर चिंता व्यक्त की है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता चोई यंग-सैम ने कहा, यह स्वीकार करना मुश्किल होगा कि अगर जापानी पक्ष पर्याप्त परामर्श के बिना फुकुशिमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र से दूषित पानी छोड़ने का फैसला करते हैं।

एवरार्ड ने कहा कि आईएईए चीन और दक्षिण कोरिया सहित 11 देशों के निरीक्षण दल के सदस्यों का चयन करेगा।

उन्होंने कहा कि आईएईए के कर्मचारी परमाणु जल के वास्तविक निर्वहन से पहले परिणाम पेश करने के लिए अगले साल जापान की यात्रा कर सकते हैं।

बारिश और भूजल के साथ मिश्रित पिघले हुए ईंधन को ठंडा करने के लिए फुकुशिमा संयंत्र में बर्बाद हुए रिएक्टरों में डाला गया पानी, जो कि दूषित भी हो गया है, उसको अधिकांश दूषित पदार्थों को हटाने के लिए एक उन्नत तरल प्रसंस्करण प्रणाली का उपयोग करके इलाज किया जा रहा है।

हालांकि, परमाणु रिएक्टरों के रेडियोधर्मी उपोत्पाद ट्रिटियम जैसे पदार्थों को फिल्टर करना मुश्किल होता है।

कुछ समुद्री विशेषज्ञों के अनुसार, अपशिष्ट जल में रूथेनियम, कोबाल्ट, स्ट्रोंटियम और प्लूटोनियम आइसोटोप के निशान भी चिंता पैदा करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

मुक्त व्यापार की तेज डगर

-डा. जयंतीलाल भंडारी- -: ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस :- इस समय भारत मुक्त व्यापार समझौतों (एफट…