Home लेख कांग्रेस क्लीन बोल्ड
लेख - September 30, 2021

कांग्रेस क्लीन बोल्ड

-सिद्वार्थ शंकर-

-: ऐजेंसी अशोक एक्सप्रेस :-

पंजाब में दलित को सीएम बनाने के बाद जिस मास्टर स्ट्रोक की बात की जा रही थी, उसने ही पार्टी को क्लीन बोल्ड कर दिया। कांग्रेस के पंजाब में खेवनहार कैप्टन अमरिंदर सिंह को किनारे लगाने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने प्रदेश कांग्रेस के प्रधान पद से अचानक इस्तीफा देकर सबको चैंका दिया। कल तक सिद्धू 2022 में पंजाब में कांग्रेस को सत्ता दिलाने का दम भर रहे थे। आज अचानक कुर्सी छोड़ दी। असल में सिद्धू का इस्तीफा अचानक नहीं है। इसकी पटकथा कैप्टन के कुर्सी से हटते ही तैयारी होनी शुरू हो गई थी। सिद्धू असल में कांग्रेस को कैप्टन की तरह चलाना चाहते थे। वह संगठन से लेकर सरकार तक सब कुछ अपने कंट्रोल में चाहते थे। ऐसा हुआ नहीं और सिद्धू को स्थानीय नेताओं से लेकर हाईकमान तक की चुनौती से गुजरना पड़ा। इस वजह से सिद्धू करीब सवा 2 महीने में ही कुर्सी छोड़कर चले गए। इस घटनाक्रम के बाद कहा जा रहा है कि कांग्रेस पंजाब में आत्महत्या का मन बना चुकी है।

अगर ताजा घटनाक्रम पर नजर डालें तो पता चलेगा कि कैप्टन अमरिंदर के हटने के बाद सिद्धू खुद सीएम बनना चाहते थे। हाईकमान ने सुनील जाखड़ को आगे कर दिया। सिद्धू मन मसोस कर रह गए। वो राजी हुए तो पंजाब में सिख सीएम ही होने का मुद्दा उठा। सिद्धू ने फिर दावा ठोका, लेकिन हाईकमान ने उन्हें नकार सुखजिंदर रंधावा को आगे कर दिया। इसके बाद सिद्धू नाराज हो गए। अंत में चरणजीत चन्नी सीएम बन गए। चन्नी के सीएम बनने के बाद सिद्धू उनके ऊपर हावी होना चाहते थे। सिद्धू लगातार उनके साथ घूमते रहे। कभी हाथ पकड़ते तो कभी कंधे पर हाथ रखते। इसको लेकर सवाल होने लगे कि सिद्धू सुपर सीएम की तरह काम कर रहे हैं। आलोचना होने लगी तो सिद्धू को पीछे हटना पड़ा। चन्नी सरकार में सिद्धू अपने करीबियों को मंत्री बनवाना चाहते थे। इसमें सिद्धू की मनमानी नहीं चली। कैप्टन के करीबी रहे ब्रह्म मोहिंदरा, विजय इंद्र सिंगला से लेकर कई पुराने मंत्री वापस शामिल हुए। इसके अलावा राणा गुरजीत पर रेत खनन में भूमिका के बावजूद उन्हें मंत्री पद दिया गया। ऐसे ही 4 नामों को लेकर सिद्धू नाराज थे। इन्हें रोकने में उनकी नहीं चली। कांग्रेस हाईकमान ने मंत्रियों के नाम पर अंतिम मुहर लगाने के लिए बुलाई बैठक में सिर्फ चरणजीत चन्नी को बुलाया। सिद्धू को इसमें शामिल नहीं किया गया। सिद्धू की बताई लिस्ट को हाईकमान ने फाइनल नहीं किया। इसकी वजह से वो नाराज हो गए। कांग्रेस में यह परंपरा रही है कि जब भी कांग्रेस की सरकार बनती है तो कैबिनेट बैठक से पहले प्रधान को भी वहां बुलाया जाता है। मगर इस बार ऐसा नहीं हुआ। सिद्धू ने कांग्रेस हाईकमान पर दबाव डालकर सुखजिंदर रंधावा को मुख्यमंत्री नहीं बनने दिया। सिद्धू जानते थे कि अगर रंधावा सीएम बने तो वो अगले साल कांग्रेस का चेहरा नहीं होंगे। चरणजीत चन्नी के सहारे वो अगली बार कुर्सी पाने में कामयाब होने की उम्मीद में थे। हरीश रावत के जरिए उन्होंने यह बात भी कही कि अगला चुनाव सिद्धू की अगुआई में लड़ा जाएगा, तब विवाद शुरू हो गया कि यह तो पंजाब के सीएम चरणजीत चन्नी की भूमिका पर सवाल खड़े करने जैसा है। इसके बाद हाईकमान को सफाई देनी पड़ी कि अगले चुनाव में सिद्धू के साथ चन्नी भी चेहरा होंगे। सिद्धू समझ गए कि अगली बार कांग्रेस सत्ता में आ भी गई तो उनके लिए सीएम की कुर्सी पाना इतना आसान नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

इजराइल के धुर-दक्षिणपंथी मंत्री ने यरूशलम के संवेदनशील धार्मिक स्थल का दौरा किया

यरूशलम, 18 जुलाई (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। इजराइल के धुर दक्षिणपंथी राष्ट्रीय सुरक्षा मंत…