Home खेल कोरोना के बढते मामलों के बीच बंद होंगे साइ अभ्यास केंद्र, एलीट खिलाड़ियों के शिविर जारी
खेल - January 11, 2022

कोरोना के बढते मामलों के बीच बंद होंगे साइ अभ्यास केंद्र, एलीट खिलाड़ियों के शिविर जारी

नयी दिल्ली, 10 जनवरी (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। भारतीय खेल प्राधिकरण ने सोमवार को कहा कि कोरोना संक्रमण के बढते मामलों के कारण देश में 67 अभ्यास केंद्रों को बंद करने का फैसला किया गया है लेकिन एलीट खिलाड़ियों के राष्ट्रीय शिविर जारी रहेंगे।

इस फैसले का पटियाला और बेंगलुरू जैसे राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्रों पर असर नहीं पड़ेगा जहां एलीट खिलाड़ियों के शिविर चल रहे हैं ।

साइ ने एक बयान में कहा ,’’ कोरोना संक्रमण के बढते मामलों के कारण भारतीय खेल प्राधिकरण ने देश भर में 67 साइ अभ्यास केंद्रों को बंद करने का फैसला किया है ।’’

इसने कहा ,’’ यह फैसला विभिन्न राज्यों द्वारा खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिये खेल गतिविधियां निलंबित करने के निर्देशों के मद्देनजर भी लिया गया ।’’

साइ के एक प्रवक्ता ने बताया ,’’ एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों की तैयारी कर रहे एलीट खिलाड़ियों के अभ्यास कार्यक्रम पर इस फैसले का असर नहीं पड़ेगा । वे राष्ट्रीय उत्कृष्टता केंद्रों पर बायो बबल में अभ्यास कर रहे हैं और सारी एहतियात बरत रहे हैं ।’’

आने वाले समय में हालात की समीक्षा करके केंद्र फिर खोलने के बारे में फैसला लिया जायेगा ।

भारत में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 1,79,723 मामले आये । इससे कुल सक्रिय मामले 7,23,619 हो गए और इस सुबह तक 146 लोगों की मौत के साथ मरने वालों का आंकड़ा बढकर 4,83,936 हो गया ।

साइ ने पिछले सप्ताह ही कड़े कोरोना प्रोटोकॉल लागू करने का निर्देश दिया था जिसमें सभी केंद्रों पर खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ की साप्ताहिक जांच शामिल है । साइ के भोपाल केंद्र पर 24 खिलाड़ियों और 12 स्टाफ सदस्यों के पॉजिटिव पाये जाने के बाद ये निर्देश जारी किये गए ।

पिछले सप्ताह साइ के बेंगलुरू केंद्र पर 35 जूनियर खिलाड़ी पॉजिटिव पाये गए जो विभिन्न राष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भाग ले रहे थे । साइ ने 175 खिलाड़ियों और 35 कोचों के औचक टेस्ट कराये थे ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

बंबई उच्च न्यायालय ने डॉक्टर के खिलाफ दुष्कर्म का मामला खारिज किया

मुंबई, 14 फरवरी (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। बंबई उच्च न्यायालय ने शिकायतकर्ता की सहमति से ए…