Home देश-दुनिया अश्विनी वैष्णव ने भारत-बांग्लादेश ‘मिताली एक्सप्रेस’ को दिखाई हरी झंडी

अश्विनी वैष्णव ने भारत-बांग्लादेश ‘मिताली एक्सप्रेस’ को दिखाई हरी झंडी

नई दिल्ली, 01 जून (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव और बांग्लादेश के रेलमंत्री मोहम्मद नूरुल इस्लाम सुजान ने बुधवार को न्यू जलपाईगुड़ी-ढाका छावनी ‘मिताली एक्सप्रेस’ को रेल भवन से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह ट्रेन भारत और बांग्लादेश के बीच तीसरी यात्री ट्रेन सेवा है। मिताली एक्सप्रेस नए रूट पर हल्दीबाड़ी-चिलाहाटी पर चलेगी। भारत विभाजन के बाद दोनों देशों के बीच बहाल होने वाला यह पांचवां रेल लिंक है।

रेलगाड़ी संख्या 13132 न्यू जलपाईगुड़ी-ढाका छावनी एक्सप्रेस सप्ताह में दो दिन यानी बुधवार और रविवार चलेगी। वापसी यात्रा के लिए रेलगाड़ी संख्या 13131 ढाका छावनी-न्यू जलपाईगुड़ी मिताली एक्सप्रेस प्रत्येक सोमवार व गुरुवार को चलेगी। ट्रेन पश्चिम बंगाल में न्यू जलपाईगुड़ी और बांग्लादेश में ढाका छावनी के बीच लगभग 595 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। भारत और बांग्लादेश के बीच दोनों देशों के संबंधों को मजूबत करने में यह ट्रेन अहम भूमिका निभा सकती है। दो साल पहले कोरोना के मद्देनजर मार्च 2020 में कोलकाता-बांग्लादेश के बीच रेल सेवाओं को स्थगित कर दिया गया था। मौजूदा समय में कोरोना के मामलों में कमी के बाद अब फिर से ट्रेन सेवा को बहाल किया जा रहा है।

पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के कटिहार डिवीजन के डीआरएम सुवेंधु कुमार चौधरी ने कहा, “हम सेवाएं शुरू करने के लिए तैयार हैं, ट्रेन अधिकतम सुविधाओं के साथ तैयार है। लगभग 15-20 यात्रियों ने पहली यात्रा के लिए अपने टिकट पहले ही बुक कर लिए हैं। “”यह एक सीधी सेवा है, जिसमें कोई पेंट्री-कार सुविधा नहीं है। हमने प्लेटफॉर्म पर भी कई सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं और हमारे रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के जवानों को हर कोने में तैनात किया जाएगा। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ट्रेन को हल्दीबाड़ी स्टेशन पर ले जाएगा और इसे जीरो लाइन पर बांग्लादेश को सौंप देगा। रोजगार के अवसर भी पैदा करें।” इस ट्रेन के टिकट न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन और कोलकाता रेलवे स्टेशन पर विदेशी यात्री आरक्षण प्रणाली काउंटरों पर उपलब्ध हैं।

जलपाईगुड़ी से भारतीय जनता पार्टी के सांसद डॉ. जयंत रॉय ने भी इसे उत्तर बंगाल के लोगों के लिए एक महान अवसर बताया कि भारतीय रेलवे न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन (एनजेपी) से अपनी पहली भारत-बांग्लादेश ट्रेन सेवा शुरू करने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, “अब लोग बांग्लादेश के ढाका के लिए एनजेपी से अपना सफर तय कर सकते हैं।” “नई ट्रेन सेवाओं से भारत और बांग्लादेश के द्विपक्षीय व्यापार संबंध और सामाजिक-आर्थिक गतिविधियों में सुधार होगा। सेवाओं से यात्रियों के लिए यात्रा आसान हो जाएगी और पूरे भारत में अन्य पर्यटन स्थलों के साथ-साथ उत्तर बंगाल क्षेत्र के पर्यटन क्षेत्र को बहुत लाभ होगा।” पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सब्यसाची डे ने शुक्रवार को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

सिख धर्म सिखाता है कि एक परिवार के रूप में मनुष्य एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं: अमेरिकी नेता

वाशिंगटन, 11 अप्रैल (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। न्यूयॉर्क के एक प्रभावशाली नेता ने वैसाखी स…