Home देश-दुनिया हर हाल में रोकनी होगी महामारी की तीसरी लहर और बच्चों को होगा बचाना: पीएम मोदी

हर हाल में रोकनी होगी महामारी की तीसरी लहर और बच्चों को होगा बचाना: पीएम मोदी

कोरोना के तीसरी लहर से बचने पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा, जहां ज्यादा संक्रमण वहां तेज हो वैक्सीनेशन

नई दिल्ली, 16 जुलाई (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। देश के कुछ राज्यों में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले से केंद्र सरकार परेशान है। यही वजह है कि इस मसल को खुद पीएम नरेंद्र मोदी ही देख रहे हैं। इन राज्यों में बढ़ते मामलों पर पीएम मोदी खुद चिंता जता चुके हैं। इसको देखते हुए शुक्रवार को वे तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल, ओडिशा और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक कर रहे हैं।

इस बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि देश में आने वाले कुल मामलों में से 80 फीसद से अधिक मामले और मौतें केवल इन्हीं राज्यों में हुई हैं। इसके लिए तेजी से काम करना होगा। उन्होंने ये भी कहा कि 23 हजार करोड़ रुपये का फंड इमरजेंसी कोविड रेस्पांस के तहत रखा है। इसका उपयोग स्वास्थ्य सेवाओं में किया जाना चाहिए। उन्होंने राज्यों को सलाह दी है कि ग्रामीण क्षेत्रों पर अधिक ध्यान देना होगा। उन्होंने ये भी कहा कि बच्चो को हर हाल में इससे बचाना होगा। पीएम मोदी ने साफ कर दिया कि इन राज्यों को अपने यहां पर अस्पतालों में बैड की स्थिति भी बढ़ानी होगी और स्वास्थ्य सेवाओं पर विशेष ध्यान देना होगा।

पीएम मोदी ने इस बैठक में कहा कि राज्यों को पारदर्शी तरीके से आंकड़ों को साझा करना चाहिए। पीएम मोदी ने इन राज्यों को सख्त हिदायत दी कि हर हाल में तीसरी लहर की आशंका को टालना होगा। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञ साफ कर चुके हैं कि यदि हालात नहीं सुधरे तो ये बेहद गंभीर हो सकते हैं। इस मौके पर उन्होंने उन देशों का भी जिक्र किया है जहां पर कोरोना की वजह से हालात गंभीर हो रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि कई राज्यों में अनलॉक के दौरान जो तस्वीरें सामने आई है वो चिंता को बढ़ाने वाली हैं। इसको रोकने की जरूरत है। लोगों को बताना होगा कि कोरोना हमारे बीच से अभी गया नहीं है। लोगों को जागरुक करने के लिए सभी पार्टियों के अलावा एनजीओ और दूसरों को भी इसके लिए साथ आना होगा। उन्होंने कहा कि वो हर समय मौजूद रहेंगे। अंत में उन्होंने कहा कि हम इस लड़ाई में जरूर जीतेंगे।

पीएम मोदी ने इस बैठक में राज्यों को इस बात की भी हिदायत दी थी इन राज्यों को कंटेंमेंट जोन और माइक्रो कंटेंमेंट जोन पर अधिक ध्यान देना होगा। उनका कहना था कि इस रणनीति के साथ कई राज्यों ने अपने यहां पर कोरोना पर लगाम लगाई है। इससे पहले भी पीएम मोदी इन राज्यों के साथ इस मुद्दे पर बैठक कर चुके हैं। आपको यहां पर ये भी बता दें कि पिछले दो दिनों से देश में कोरोना के मामले बढ़े हैं। इसकी सबसे बड़ी वजह यही राज्य हैं। इन राज्यों में बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने कुछ टीमों का भी गठन किया है जो लगातार राज्यों के संपर्क में हैं। ये टीम राज्यों को जरूरी सलाह भी दी रही हैं। राज्यों की पीएम के साथ आज होने वाले बैठक सुबह 11 बजे शुरू होगी।

आपको यहां पर ये भी बता दें कि जुलाई में अब तक सामने आए कोरोना के नए मामलों में 73 फीसद से ज्यादा इन छह राज्यों से ही आए हैं। बीते 24 घंटों के दौरान देश में 39071 नए मामले सामने आए हैं और 544 मरीजों की मौत हुई है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख भाई मांडविया भी इस बैठक में उपस्थित थे। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद का सिलसिला आरंभ किया है। इस कड़ी में पिछले दिनों उन्होंने पूर्वो के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से संवाद किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

तनाव दूर करने में मदद करता है मेडिटेशन : सिंधु

हैदराबाद, 15 अगस्त (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस)। बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने रविवार को कहा कि …