Home देश-दुनिया प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकार पर जासूसी कराने का अंदेशा जताया

प्रदर्शनकारी किसानों ने सरकार पर जासूसी कराने का अंदेशा जताया

नई दिल्लीए 22 जुलाई (ऐजेंसी/अशोक एक्सप्रेस) केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे किसान नेताओं ने बृहस्पतिवार को कहा कि उन्हें आशंका है कि सरकार इजराइली सॉफ्टवेयर पेगासस के जरिए उनकी जासूसी करवा रही है।

किसान नेता शिव कुमार कक्का ने कहाए ष्ष्यह एक अनैतिक सरकार है। हमें अंदेशा है कि हमारे नंबर उन लोगों की सूची में शामिल हैंए जिनकी जासूसी करायी जा रही है।ष्ष् उन्होंने आरोप लगायाए ष्ष्जासूसी के पीछे सरकार है। यह स्पष्ट है और यह मुद्दा जोर पकड़ रहा है। हम जानते हैं कि वे हम पर भी नजर रख रहे हैं।ष्ष् स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान नेताओं के फोन नंबर साल 2020.21 के आंकड़ों में मिलेंगे। यादव ने पीटीआई.भाषा से कहाए ष्ष्जब यह आंकड़ा सार्वजनिक होगाए निश्चित तौर पर हमारे नंबर भी मिलेंगे।ष्ष्

यादव ने कहा कि प्रदर्शनकारी किसान सरकार को यह दिखाने के लिए जंतर मंतर पर आए हैं कि किसान मूर्ख नहीं हैं। ब्रिटेन की संसद में किसानों के मुद्दों पर चर्चा हुईए लेकिन भारत की संसद में नहीं।

यादव ने संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्रीय कानूनों के विरोध में किसानों द्वारा उठाए गए मुद्दों पर बहस के लिए जोर दिया। किसान नेता हन्नान मुल्ला ने कहा कि उन्होंने सभी सांसदों को अपनी मांगें उठाने के लिए पत्र लिखा थाए लेकिन आरोप लगाया कि संसद उनके मुद्दों को नहीं उठा रही है।

संसद के मॉनसून सत्र के दौरान केंद्र के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए 200 किसानों का एक समूह बृहस्पतिवार को मध्य दिल्ली के जंतर.मंतर पर पहुंचा। पुलिस ने मध्य दिल्ली के चारों ओर सुरक्षा का घेरा बनाकर रखा है और वाहनों की आवाजाही की कड़ी निगरानी की जा रही है। दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने नौ अगस्त तक संसद परिसर से कुछ मीटर दूर जंतर.मंतर पर अधिकतम 200 किसानों को प्रदर्शन की विशेष अनुमति दी है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

एमसीडी चुनाव में ‘नोटा’ को 57,545 वोट पड़े

नई दिल्ली, 08 दिसंबर (ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस)। दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनाव में 57,000 …