Home लेख हरियाणा में नौकरी के पेपर लीक कब तक……?
लेख - August 9, 2021

हरियाणा में नौकरी के पेपर लीक कब तक……?

-प्रियंका सौरभ-

-: ऐजेंसी अशोक एक्सप्रेस :-

कल हरियाणा में पुलिस कांस्टेबल की भर्ती परीक्षा पर भी पेपर लीक माफिया की नजर लग गई है। कोरोना के चलते लंबे अंतराल से स्थगित चल रही हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) की भर्ती परीक्षाएं शनिवार को शुरू हो गईं, लेकिन पहले ही दिन पुरुष कांस्टेबल की परीक्षा का पेपर लीक हो गया। कैथल में तीन पेपर साल्वर पकड़े गए, जिनके पास आंसर-की भी बरामद हुई। इसके बाद एचएसएससी ने शनिवार को दो सत्रों में आयोजित परीक्षा के साथ ही रविवार को होने वाली कांस्टेबल की भर्ती परीक्षा भी रद कर दी।

हरियाणा में नकल माफिया पूरी तरह नौकरी एवं अकादमिक परीक्षाओं पर हावी है। पिछले कुछ वर्षों में हरियाणा शिक्षक पात्रता परीक्षा (एचटेट), क्लर्क, एक्साइज इंस्पेक्टर, एचसीएस ज्यूडिशियल, कंडक्टर, पटवारी, नायब तहसीलदार, आइटीआइ इंस्पेक्टर, बिजली बोर्ड और ग्राम सचिव की भर्ती परीक्षा सहित करीब तीन दर्जन परीक्षाओं के पेपर लीक हो चुके हैं। इसी कड़ी में कल पुलिस कांस्टेबल की भर्ती परीक्षा का पेपर भी लीक हो गया।

एग्जाम कंडक्ट करवाने की सारी जिम्मेदारी कमीशन की है व कमीशन में भी चिन्हित करें तो सेक्रेटरी की जिम्मेवारी एक स्थायी कार्यकारी के तौर पर होती है मगर जब-जब भी पेपर लीक हुए हैं हमने सेक्रेटरी का कोई बयान या जिम्मेवारी नहीं देखी क्या वो राजनितिक दबाव में है तभी ये पेपर बार-बार लीक होते है या फिर उनकी कार्य शैली ठीक नहीं है, अगर ऐसा है तो वो अब तक इस पद पर क्यों है ?

ऐसा कैसे हो सकता है कि हर एग्जाम लीक हो, हर एग्जाम के प्रश्नपत्र व आंसर-की में गड़बड़ी हों, और हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) सेक्रेटरी से कोई जवाब तलब न हो.. कोई आंच न आये, कुछ पूछा न जाए?? इतने बड़े लेवल पर पेपर लीक, स्टेट एक्सचेकर व युवाओं का इतना पैसा व समय बर्बाद और वो भी एक बार नहीं बार बार हो रहा हो लेकिन हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग (एचएसएससी) सेक्रेटरी फिर भी अपने पद पर कायम हों… कैसे? क्या उनसे पूछताछ नहीं होनी चाहिए? कोई इन्क्वारी नहीं होनी चाहिए? जिम्मेदारी तय नहीं होनी चाहिए?

हर बार 10-15 लोगों को पकड़ा जाता है, फिर छोड़ दिया जाता हैं. 2015 से अब तक जो भी ऑनलाइन पेपर हुए सब आउट हुए हैं, कभी पेपर आउट हुआ तो नकल जरूर हुई, बिजली विभाग में हाल ही में ज्वाइन किये एव एलव एम0 जिनकी मैरिट 97 प्रतिशत रही थीय क्या वो बिना पेपर आऊट थी? इसकी जाँच हो जाये तो सब को पता चले की, ये पेपर भी आऊट था और आऊट करने वाले नौकरी भी ज्वाइन कर गये.क्या ये सब सरकारी अफसरों एवं आलाकमान के लोगों की मिलीभगत हैं? बाकी पेपर आउट कराओ, हम आपके साथ हैं, इसी नीति के साथ काम होता है. 12 घंटे पहले जब पता था कि पेपर लीक हो गया है..फिर भी दोनों सत्र के पेपर लिए गए..? क्या ये सब मामले को दबाने की साजिश थी या वास्तव में बड़ी कार्रवाई के लिए जाल बिछाया गया था?

पहली बात हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की अपनी एग्जाम कमेंटी नहीं है, तभी एग्जाम का पैटर्न सही से तैयार नहीं होता. कहीं से भी कुछ भी पूछ लिया जाता और अभ्यर्थी तैयारी क्रिकेट मैच की करते है लेकिन खेलना फुटबाल पड़ता है, सोचिये ? फिर एक एग्जाम कंडक्ट करने के लिए प्रॉपर मैन पावर नहीं है, जब एग्जाम होते है तभी ये लोग बायोमेट्रिक के लिए इधर-उधर से स्टाफ को एकत्रित करते है..पूरा पुलिस प्रबंधन नहीं करते. क्यों ना सिविल सर्विस की तरह एक प्रॉपर चेंनेल तैयार किया जाये और एक ही शिफ्ट में पेपर लिया जाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Check Also

स्पाइसजेट के शेयर बन गए रॉकेट, दर्ज की गई 9 फीसद की अधिकतम उछाल

-: ऐजेंसी/अशोका एक्स्प्रेस :- नई दिल्ली। स्पाइसजेट के शेयरों में गुरुवार को जबरदस्त तेजी आ…